निरंकारी सेवादारों द्वारा स्वच्छता अभियान तहत पार्क की सफाई की

0
969

अनिल कुमार,बठिंडा
स्वच्छ भारत अभियान के तहत संत निरंकारी चैरीटेबल फाऊंडेशन द्वारा देश भर में व्यापक रूप में सफाई अभियान चलाया गया है। इसी श्रंृखला के तहत संत निरंकारी मंडल ब्रांच बठिंडा के संत निरंकारी चैरीटेबल फाऊंडेशन के वलंटीयरों व सेवादार बहनों व भाइयों द्वारा सतगुरु माता सुदीक्षा जी महाराज की अपार कृपा से संत निरंकारी मंडल बठिंडा जोन के जोनल इंचार्ज श्री एस.पी.दुग्गल के योग्य नेतृत्व में स्थानीय निरंकारी भवन की सफाई, इसके साथ लगते आसपास के ऐरिए व गली नंबर 6 के पार्क की सेवादारों द्वारा सफाई की गई। जिसमें सेवादल की बहनों व भाइयों ने बड़े उत्साहपूर्वक इस सफाई अभियान में भाग लिया।
श्री दुग्गल ने बताया कि सफाई मुहिम के बाद संत निरंकारी चैरीटेबल फाऊंडेशन के वलंटीयरों व सेवादारों द्वारा प्लास्टिक की रोकथाम के प्रति जागरूकता रैली भी निकाली गई। इस रैली का नेतृत्व बठिंडा के जोनल इंचार्ज श्री एस.पी. दुग्गल ने किया। जिसमें संत निरंकारी चैरीटेबल फाऊंडेशन एस.एन.सी.एफ के वलंटीयरों/सेवादार बहनों व भाइयों ने पूरे उत्साह से हिस्सा लिया। इस दौरान सेवादारों ने रास्ते में मिले प्लास्टिक के कचरे को उठा कर थैलों में डालकर उचित स्थानों पर फैंका गया। शांति मार्च के दौरान सेवादारों के हाथों में स्लोगन लिखी हुई तख्तीयां पकड़ी हुई थी। इस मौके संत निरंकारी चैरीटेबल फाऊंडेशन के वलंटीयरों ने शहर निवासियों को प्लास्टिक मुक्त जिला बनाने के लिए सहयोग देने व प्लास्टिक की प्रयोग न करने की अपील भी की। यह शांति मार्च संत निरंकारी भवन से शुरू होकर गली नंबर 6, माल रोड, हनुमान चौंक, गोनियाणा रोड से होती हुई संत निरंकारी भवन में समाप्त हुई।
इस मौके श्री एस.पी. दुग्गल ने बताया कि प्रदुषण अंदर हो या बाहर हो, इंसान के लिए दोनों ही खतरनाक है। अंदर के प्रदुषण को सतगुरु की कृपा से ब्रह्मज्ञान की प्राप्ति के बाद भक्ति मार्ग पर चलते हुए खत्म किया जा सकता है तथा बाहरी प्रदुषण को वातावरण की शुद्धता के लिए सफाई करके तथा प्लास्टिक का प्रयोग न करके इसको रोका जा सकता है। उन्होंने बताया कि निरंकारी मिशन का मुख्य मनोरथ दीन दुखियों का दुख बांटना, मानवता की सेवा के लिए प्रेम प्यार बढ़ाना, आपसी भाईचारक सांझ पैदा करना तथा इसको ओर मजबूत करना है। बाबा हरदेव सिंह जी महाराज ने कहा कि ‘‘जीवन सही अर्थों में जीवन तभी ही है यदि यह दूसरों के काम आए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here