बठिंडा में 85 वर्षीय महिला का कत्ल

0
413

बठिंडा,अनिल कुमार

पुराना थाना के पास गंगा राम वाली गली नंबर 2 में एक 85 साल की बुजुर्ग महिला का कत्ल हो गया। महिला की पहचान माेहनी देवी पत्नी महंगा राम के तौर पर हुई है। जिस समय महिला की हत्या हुई उस समय घर में और कोई नहीं था। शाम साढ़े 4 बजे जब बहू सरोज घर में पहुंची तो घर के फर्श पर माेहनी देवी की लाश पड़ी थी।

उनके पति विजय को बताया। जिसके बाद घटना का पता चलते ही कोतवाली पुलिस, आईए-1,सीआईए-2 की टीम के अलावा एसएसपी भूपिंदरजीत सिंह व एसपीडी गुरविंदर सिंह संघा पहुंचे। पुलिस की टीमों ने करीब एक घंटे तक डॉग स्क्वायड की टीमों के साथ मिलकर घटना की जांच की। थाना कोतवाली पुलिस में मृतका के बेटे के बयानों पर अज्ञात पर एफआईआर दर्ज कर ली गई है।

मृतका मोहनी देवी के बेटे विजय कुमार के अनुसार रोजाना की तरह पूरा परिवार दुकान में चला जाता था। घर में सिर्फ उनकी मां मोहनी देवी ही रहती हैं। घर को बाहर से ताला लगा दिया जाता है और छत वाला गेट भी बंद कर दिया जाता है।

घटनास्थल के अनुसार फर्श पर मोहनी देवी की लाश पड़ी थी और अंदर सभी कमरों में सामान बिखरा पड़ा था। पुलिस के अनुसार घर से कोई भी सामान चोरी नहीं हुआ। सोना और नकदी सुरक्षित हैं। मोहनी देवी घर में अकेली थी और बहू सरोज दोपहर 12 बजे खाना लेकर पति विजय कुमार को दुकान में देने गई थी। साढ़े चार बजे घर पहुंचने पर लॉक खोलने के बाद उसने ही अपने पति विजय को घटना के बारे में बताया।

पुलिस की अलग-अलग टीमेें इस ब्लाइंड मर्डर को ट्रेस करने में जुट गई हैं। मृतका के शरीर पर कोई चोट के निशान नहीं हैं। लेकिन लाश को देखकर ऐसा प्रतीत होता है कि बुजुर्ग के साथ हाथापाई हुई है। पुलिस इस वारदात को लेकर परिवार के लोगों से भी पूछताछ कर रही है। एसपी डी गुरविंदर सिंह संघा का कहना था कि पुलिस बहुत जल्द इस केस को ट्रेस कर लेगी।

घटना स्थल को देखकर इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि इस वारदात को किसी परिचित ने ही अंजाम दिया है। वहीं इस घटना से गली के लोग भी हैरान हैं क्योंकि बरसात के मौसम के चलते लोग गली में बैठे थे। गली के लोगों में ये सवाल चल रहे हैं अगर इस वारदात को किसी बाहरी व्यक्ति ने अंजाम दिया है तो वह घर में दाखिल किस रास्ते से हुआ। क्योंकि घर बाहर से लॉक था।

पत्नी ने फोन कर बताया, मां को किसी ने मार डाला
गंगा राम वाली गली नंबर 2 के रहने वाले विजय कुमार गोगिया ने बताया कि उसका अलमारियों का काम है और दुकान किला गेट के पास है। दुकान में वह पत्नी सरोज के साथ बैठता है और बेटा तरुण भी हाथ बंटाता है। उनके अलावा घर में मां मोहनी देवी है। पत्नी सरोज रोजाना की तरह घर को बाहर से लाॅक लगाकर दोपहर 12 बजे खाना लेकर दुकान में आई थी।

शाम साढ़े चार बजे के करीब घर पहुंची तो उसने उसे फोन कर जानकारी दी कि मां जी को किसी ने मार डाला और घर का सारा सामान बिखरा पड़ा है। विजय ने बताया कि वह और बेटा तरूण घर पहुंचे और पुलिस को सूचना दी। विजय कुमार ने बताया कि उनका किसी के साथ कोई झगड़ा नहीं था। विजय ने बताया कि रोजाना जाते समय छत वाला दरवाजा भी बंद करके जाते हैं लेकिन आज जब घर पहुंचे तो खुला हुआ था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here