सुप्रिम कोर्ट का विद्यार्थियों को राशन व राशि पहुंचाने का आदेश लागु करने में आ रही जमीनी स्तर पर मुशकिले कक्षा छठी से आठवीं तक की कुल छात्राओं हेतु पहुंचा राशन चार दिन से स्कूल के स्टोर में ही पड़ा हुआ

1
856

गिद्दड़बाहा,शक्ति जिंदल

पंजाब अंदर लगे क3र्यू दौरान सरकारी स्कूलों में पढ़ते विद्यार्थियों को मिड डे मील के तहत दिए जाने वाले भोजन को जारी रखते हुए उनको घरों तक राशन पहुंचाने व उस राशन को पकाने की खातिर पैसे विद्यार्थियों के खातों में डालने के आदेश पिछले दिनों सुप्रिम कोर्ट की ओर से जारी किए गए थे। जिसके तहत पंजाब अंदर शिक्षा विभाग की ओर से स्कूलों में राशन तो उपल4द करवा दिया गया,मगर पिछले करीब चार दिन से पहुंचा राशन विद्यार्थियों के घरों तक नहीं पहुंच पाया है। इस तरह का मामला शहर में स्थित सरकारी सीनियर सै1डऱी स्कूल लड़किया में देखने को मिला। जहां पर स्कूल के स्टोर में पड़ा राशन विद्यार्थियों के पेट तक पहुंंचने का इंतजार कर रहा है।
मालुम हो कि सुप्रिम कोर्ट की ओर से चल रहे २३ मार्च से ३१ मार्च तक क3र्यू दौरान स्कूल बंद रहने की वजह से कक्षा छठी से कक्षा आठवीं तक के विद्यार्थियों को मिड डे मील तहत राशन उनके घरों तक पहुंचाने व उनके खातों में पैसे डालने की बात कही गई थी।
जिसके तहत शहर गिद्दड़बाहा अंदर भी बने सरकारी सीनियर सै1डऱी स्कूल लड़किया में पढ़ती ४३४ छात्राओं के लिए पिछले करीब चार दिन पहले २६ 1िवंटल पचास किलोग्राम गेंहु व चावल पहुंचे थे। जबकि विभाग से सही तालमेल नही होने की वजह से छात्राओं को राशन नहीं पहुंचाया जा सका। स्कूल प्रिंसीपल शंकर चौधरी का कहना है कि कक्षा छठी से आठवीं तक की कुल ४३४ छात्राओं को मिड डे मील तहत खाना दिया जाता है। उनके अनुसार आठवीं कलास के ढेड़ सौ विद्यार्थी है। जिनको नौ दिन के हिसाब से छह सौ ग्राम गेंहु व ७५० ग्राम चावल भेजने है। वही उनके खातों में भोजन बनाने हेतु साठ साठ रूपये उनतालीस पैसे भी जमा करवाने है। जबकि कक्षा छठी ओर सातवीं की छात्राओं को चौबीस दिन के लिए एक किलो आठ सौ ग्राम चावल व गेंहु भोजन पकाने हेतु १६१.०४ रूपये खाते में जमा करवाने है। जिसको लेकर समस्याएं आ रही है। उनके अनुसार उनके पास विद्यार्थियों के पूरे पते नही वही कईयों के खाते बंद है। उनके अनुसार जमीनी स्तर पर उनको राशन विद्यार्थियों के घरों क पहुंचाने में खासी दिक्कते आ रही है। इस योजना के तहत दिए जाने वाले राशन वाली छात्राओं की संखया ज्यादा है व उनके पास ज्यादातर महिला अध्यापक का स्टाफ है। वही राशन को पहले प्रति छात्रा के हिसाब से तोल कर लिफाफों में डाल कर पैक कर सील किया जाना है। जिसके बाद छात्राओं के घरों तक राशन पहुंचाया जाएगा। वही कई छात्राओं के उनके पास पूरे पते भी इस समय उपल4द नही है। जबकि पैसे खाते में डालने को लेकर उनका कहना था कि कई छात्राओं के खाते तो फ्रीज हो चुके है। जबकि कई जनरल छात्राओं के खाते भी नही है।
वही दुसरी ओर शहर के सरकारी सीनियर सै1डऱी स्कूल लड़के के प्रिंसीपल सतनाम सिंह अनुसार इस स्कीम के तहत उनके स्कूल के करीब २५० विद्यार्थियों में से अब तक करीब दौ सौ विद्यार्थियों को यह राशन पहुंचाया जा चुका है। वही इस सबंधी जिला शिक्षा अधिकारी मलकीत सिंह खोसा का कहना था कि सुप्रिम कोट व सरकार की हिदायतों अनुसार राशन व राशि को विद्यार्थियों तक हर हाल में पहुंचाया जाएगा।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here