आर्थिक हालत बिगड़ी, पहली तिमाही में GDP ग्रोथ घटकर 5 फीसदी पहुंची

0
829

बिजनेस डेस्क: 2019 के आरंभ से ही भारत आर्थिक सुस्ती के दौर से गुजर रहा है। आर्थिक मोर्चे पर मोदी सरकार को बड़ा झटका लगा है। विनिर्माण, कृषि और खनन क्षेत्र में सुस्ती के कारण देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की विकास दर चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में घटकर पांच प्रतिशत रह गयी जबकि पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में यह वृद्धि दर आठ प्रतिशत रही थी। जीडीपी गिरने से रोजगार के साथ साथ शेयर बाजार पर प्रभाव पड़ेगा। इसके साथ ही निवेशकों का भी भरोसा घटेगा।
केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय द्वारा शुक्रवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, अप्रैल-जून की तिमाही में स्थिर मूल्य पर जीडीपी 35.85 लाख करोड़ रुपये रहा। पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में यह 34.14 लाख करोड़ रुपये रहा था। इस प्रकार जीडीपी विकास दर पांच प्रतिशत दर्ज की गयी। विनिर्माण क्षेत्र के सकल मूल्य वर्द्धन की विकास दर जो पिछले साल अप्रैल-जून के दौरान 12.1 प्रतिशत रहा था, चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में घटकर 0.6 प्रतिशत रह गया।
कृषि, वानिकी एवं मात्स्यिकी की विकास दर 5.1 प्रतिशत से घटकर दो प्रतिशत रह गयी। हालांकि, खनन क्षेत्र की विकास दर 0.4 प्रतिशत से बढ़कर 2.7 प्रतिशत पर पहुंच गयी। बिजली, गैस, जलापूर्ति और यूटिलिटी सेवाओं की विकास दर 8.6 प्रतिशत और लोक प्रशासन, रक्षा एवं अन्य सेवाओं की विकास दर 8.5 प्रतिशत दर्ज की गयी। व्यापार, होटल, परिवहन, संचार एवं प्रसारण से जुड़ी सेवाओं की विकास दर 7.1 प्रतिशत दर्ज की गयी। वित्तीय, रियल इस्टेट एवं पेशेवर सेवाओं की विकास दर 5.9 फीसदी और निर्माण क्षेत्र की विकास दर 5.7 प्रतिशत रही
बता दें कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज घरेलू अर्थव्यवस्था को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए बताया था कि देश की इकॉनमी सही हालात में हैं। उन्होंने बैंकों की अच्छी स्थिति के बारे में कहा कि इनके एनपीए (नॉन पफॉर्मिंग ऐसेट) कम हुए हैं और मुनाफा बढ़ा है जो अच्छी खबर है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here